What was the Jaliyanwala Bagh of Bihar? Tarapur Massacre



Tarapur in the Munger district of Bihar witnessed one of the most brutal, inhuman police actions of the British colonizers of India. On the 15th of February 1932, about 400 protestors were shot at. As per not-so-reliable colonial records, 31 or 34 people were shot dead in this colonial brutality of the inhuman British government.

https://indianexpress.com/article/explained/sacrifice-34-freedom-fighters-tarapur-bihar-shahid-diwas-7777147/

By anandkumar

आनंद ने कंप्यूटर साइंस में डिग्री हासिल की है और मास्टर स्तर पर मार्केटिंग और मीडिया मैनेजमेंट की पढ़ाई की है। उन्होंने बाजार और सामाजिक अनुसंधान में एक दशक से अधिक समय तक काम किया। दोनों काम के दायित्वों के कारण और व्यक्तिगत रूचि के लिए भी, उन्होंने पूरे भारत में यात्राएं की हैं। वर्तमान में, वह भारत के 500+ में घूमने, अथवा काम के सिलसिले में जा चुके हैं। पिछले कुछ वर्षों से, वह पटना, बिहार में स्थित है, और इन दिनों संस्कृत विषय से स्नातक (शास्त्री) की पढ़ाई पूरी कर रहें है। एक सामग्री लेखक के रूप में, उनके पास OpIndia, IChowk, और कई अन्य वेबसाइटों और ब्लॉगों पर कई लेख हैं। भगवद् गीता पर उनकी पहली पुस्तक "गीतायन" अमेज़न पर बेस्ट सेलर रह चुकी है।

3 thoughts on “What was the Jaliyanwala Bagh of Bihar? Tarapur Massacre”
  1. इस महत्वपूर्ण ऐतिहासिक घटना की याद ताज़ा कराने के लिए धन्यवाद। सभी शहीदों को सादर नमन।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed