Category: साहित्य

साहित्य जगत से कविता, शेर, सायरी, गजल, और अन्य

दिव्य जीर्णोद्धार फाउंडेशन ने अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस पर आयोजित किया संगोष्ठी

पटना, 21 फरवरी, 2024 :: अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस के अवसर पर पटना में दिव्य जीर्णोद्धार फाउंडेशन ने अपने कार्यालय परिसर में संगोष्ठी का आयोजन किया। संगोष्ठी की अध्यक्षता दिव्य जीर्णोद्धार…

अयोध्या में प्रभु श्रीराम मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के बाद भारत की आर्थिक विकास दर जा सकती है 10 प्रतिशत के पार

किसी भी देश में आर्थिक विकास को अतुलनीय गति देने में केवल 10 वर्ष का समय बहुत कम माना जाता है। इतिहास गवाह है कि कई देशों को आर्थिक विकास…

भारत में सांस्कृतिक धरोहरों को दिलाया जा रहा है उचित स्थान

22 जनवरी 2024 को प्रभु श्रीराम के भव्य मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा अयोध्या में सम्पन्न होने जा रही है। पिछले लगभग 500 वर्षों के लम्बे संघर्ष के पश्चात श्रीराम लला…

सड़क, पुल एवं पुलिया बनी है और बन भी रही है – नहीं लगा कल-कारखाने और बढ़ी है बेरोजगारी

पटना, 13 जनवरी :: राज्य में सरकार आती है और जाती है। सड़क, पुल एवं पुलिया बनी है और बन भी रही है, लेकिन कल-कारखाने नहीं लगी है और बेरोजगारी…

भारत को भारत बनाएं – चलें गांव की ओर

प्राचीन काल में भारत का पूरे विश्व में साम्राज्य था। आज ऐसे कई प्रमाण मिल रहे हैं, जिससे सिद्ध हो रहा है कि सनातन संस्कृति का अनुपालन करने वाले लोग…

वियतनाम में “विश्व हिन्दी सेवा सम्मान” से नवाजे गए डॉ. विपिन कुमार

पटना/हो चि मिन्ह सिटी, वियतनाम, 6 जनवरी :: विश्व हिन्दी परिषद के महासचिव डॉ. विपिन कुमार को, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स के अनुशंसा पर वियतनाम बुक ऑफ रिकॉर्ड्स द्वारा हो…

गाय पालन से देश के आर्थिक विकास को दी जा सकती है अतुलनीय गति

सनातन संस्कृति के अनुसार भारत में गाय को माता का दर्जा प्रदान किया गया है। माता अपने बच्चों का लालन पालन करती है, इसी प्रकार की संज्ञा गाय माता को…

वियतनाम में वियतनाम बुक ऑफ रिकॉर्ड्स से सम्मानित होंगे डॉ विपिन कुमार

पटना, 02 जनवरी :: विश्व हिन्दी परिषद के महासचिव डॉ. विपिन कुमार को, हिन्दी भाषा के संवर्धन में किए गए उनके अव्वल योगदानों के लिए सम्मानित किया जाएगा। उन्हें वियतनाम…

फिजी की धरती पर राष्ट्रकवि ‘दिनकर’ की गूंज

12वें विश्व हिंदी सम्मेलन को संबोधित करते हुए विश्व हिंदी परिषद के महासचिव डॉ. विपिन कुमार जितेन्द्र कुमार सिन्हा, पटना, 29 दिसम्बर :: हिंदी-पारंपरिक ज्ञान से आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस तक है…