Category: अलौकिक

विश्व के कई देशों में भारतीय मूल के नागरिकों की बढ़ती संख्या एवं भारतीय सनातन दर्शन का प्रसार

भारतीय मूल के नागरिकों का भारत से पलायन प्रमुख रूप से तीन खंडकालों के दौरान हुआ है। प्रथम, वर्ष 1833 में भारतीय मूल के नागरिकों को बड़ी संख्या में (लगभग…

झिझिया – बिहार की लोकपरंपरा

ये कहानी जादू-टोने की है। बिलकुल वैसी ही जैसी हरी पुत्तर, मेरा मतलब हैरी पॉटर की होती है – जिसके बारे में कहते तो हैं कि ये बच्चों की कहानी…

देवी धूमावती – दस महाविद्या

धूमावती देवी महाविद्याओं में सातवें स्थान पर मानी जाती हैं। इनके बारे में जो कथा आती है उसके अनुसार एक बार भगवती पार्वती भगवान शिव के साथ कैलाश पर्वत पर…

देवी दुर्गा की पूजा है तो रामचरितमानस क्यों पढ़ते हैं?

करीब-करीब 1950 के लगभग जब गीता प्रेस ने रामचरितमानस छापा, तो उस संस्करण की विशेष बात ये थी कि उसमें पाठ की विधि भी आने लगी। इस संस्करण में नवाह्नपारायण…

मदालसा की लोरी – मार्कंडेय पुराण

मार्कण्डेय पुराण में मदालसा द्वारा अपने पुत्र को सुनाई गई लोरी आती है। इसे देखकर कहा जा सकता है कि विश्व की सबसे प्राचीन लोरियां भी संभवतः भारत में ही…

बिहार: भागलपुर के 85 वर्ष के श्री राधाकृष्ण चौधरी ने साबित किया Age Is Just A Number

Mini Metro Live Desk : आप सबो ने सूना तो होगा की Age Is Just A Number इसी बात को साबित किया है भागलपुर बिहार के रहनेवाले श्री राधाकृष्ण चौधरी…

पटना बेउर मोड़ पर संगम की नई पड़ोसन लेकर आई है हांडी मटन

पटना : आपने सूना होगा की स्वाद जो आपको दीवाना बना दे लेकिन सायद ही ऐसा स्वाद आपने चखा होगा लेकिन आपके स्वाद में रंग भड्ने आ गई है संगम…

You missed