On Editing Your Writing || अपने लेखन का संपादन



अपने लिखे को सम्पादित करना जरूरी होता है. इससे लेखन की शैली और भाषा में तो सुधार होता ही है, साथ ही जो कमियां रह गयीं हों, उनपर भी ध्यान जाता है.

What kind of editing does your writing need? Is it in the assessment or developmental phases? If you have completed your writing and need to improve on your writing style, you would need copy editing. In case, you need to get a final draft ready, you need proofreading, which is again a part of editing. For both fictional and non-fictional works, fact-checking might be a need too.

You can find a lot of information on editing online. A link to the Reedsy blog has been given below (which I have used for reference in this video), but you can Google a lot of other resources as well. In case you are looking at Reedsy blog, I would recommend downloading their free checklist for editing.

Link to Reedsy Blog – https://blog.reedsy.com/guide/editing/?utm_source=mailparrot&utm_campaign=blog_editing

Join us on Telegram – https://t.me/WritersUnlimited

By anandkumar

आनंद ने कंप्यूटर साइंस में डिग्री हासिल की है और मास्टर स्तर पर मार्केटिंग और मीडिया मैनेजमेंट की पढ़ाई की है। उन्होंने बाजार और सामाजिक अनुसंधान में एक दशक से अधिक समय तक काम किया। दोनों काम के दायित्वों के कारण और व्यक्तिगत रूचि के लिए भी, उन्होंने पूरे भारत में यात्राएं की हैं। वर्तमान में, वह भारत के 500+ में घूमने, अथवा काम के सिलसिले में जा चुके हैं। पिछले कुछ वर्षों से, वह पटना, बिहार में स्थित है, और इन दिनों संस्कृत विषय से स्नातक (शास्त्री) की पढ़ाई पूरी कर रहें है। एक सामग्री लेखक के रूप में, उनके पास OpIndia, IChowk, और कई अन्य वेबसाइटों और ब्लॉगों पर कई लेख हैं। भगवद् गीता पर उनकी पहली पुस्तक "गीतायन" अमेज़न पर बेस्ट सेलर रह चुकी है।

One thought on “On Editing Your Writing || अपने लेखन का संपादन”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed