kavita

चलो आज झूठे भरम तोड़ दें हम
ये पत्थर के सारे सनम तोड़ दें हम

प्रेम क्वॉरेंटाइन हो गया
नफरत फैली गली-गली

मैं बनाता तुझे हमसफ़र ज़िन्दगी
काश आती कभी मेरे घर ज़िन्दगी

हम फ़क़ीरों के क़ाबिल रही तू कहाँ
जा अमीरों की कोठी में मर ज़िन्दगी

युवा शायर समीर परिमल ने जब यह पंक्तियां सुनाई तो सारा सभागार झूम उठा ।
अवसर था कविता फ्यूजन कार्यक्रम का जिसमें समकालीन कविता के कवि दिलीप कुमार और शायर समीर परिमल ने एक से बढ़कर एक कविताएं और गजलें सुनाई । समीर परिमल ने अपनी नई रचना से वाहवाही पाई –
चलो आज झूठे भरम तोड़ दें हम
ये पत्थर के सारे सनम तोड़ दें हम
लबों पर तुम्हारे तबस्सुम सजाकर
मुहब्बत के साये में दम तोड़ दें हम ।

 

 

दिलीप कुमार ने कार्यक्रम में बारिश का पानी, जलती तो बाती है सहित अनेक कविताएँ सुनाईं । कोरोना काल की कविताओं को खूब पसंद किया गया-
प्रेम क्वॉरेंटाइन हो गया
नफरत फैली गली-गली
न जाने कैसी हवा चली ।

खुद से खुद की दूरी देखी
तो खुद पर ही रोना आया ।
मुद्दत बाद मिला मैं खुद से
जब मेरे देश कोरोना आया ।।
आर्केड बिजनेस कॉलेज में आयोजित कार्यक्रम का संयोजन युवा कवयित्री रश्मि गुप्ता द्वारा किया गया । दूरदर्शन की प्रसिद्ध एंकर प्रेरणा प्रताप ने कार्यक्रम का संचालन किया ।
कार्यक्रम में अंतर्राष्ट्रीय शायर डॉ कासिम खुर्शीद, प्रसिद्ध साहित्यकार प्रेम किरण, राजमणि मिश्र, डॉ रामनाथ शोधार्थी, प्रमोद कुमार, विभा सिंह, प्रेमलता सिंह, पूनम देवा, अविनाश झा, रणधीर कुमार, सुनील कुमार लवसिम, ओम प्रकाश, सहित सैकड़ों लोग उपस्थित रहे ।

By anandkumar

आनंद ने कंप्यूटर साइंस में डिग्री हासिल की है और मास्टर स्तर पर मार्केटिंग और मीडिया मैनेजमेंट की पढ़ाई की है। उन्होंने बाजार और सामाजिक अनुसंधान में एक दशक से अधिक समय तक काम किया। दोनों काम के दायित्वों के कारण और व्यक्तिगत हित के रूप में उन्होंने पूरे भारत में यात्रा की। वर्तमान में, वह भारत के 500+ जिलों में अपना टैली रखता है। पिछले कुछ वर्षों से, वह पटना, बिहार में स्थित है, और इन दिनों संस्कृत में स्नातक की पढ़ाई पूरी कर रहें है। एक सामग्री लेखक के रूप में, उनके पास OpIndia, IChowk, और कई अन्य वेबसाइटों और ब्लॉगों पर कई लेख हैं। भगवद् गीता पर उनकी पहली पुस्तक "गीतायन" अमेज़न पर लॉन्च होने के पांच दिनों के भीतर स्टॉक से बाहर हो गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

hi Hindi
X