CEED Logo

केवल 7 दिन ही पटना में एयर क़्वालिटी ‘अच्छी’ रही बीते सात महीनों में

पटना, 10 अगस्त, 2021: पटना में क्लीन एयर एक्शन प्लान (स्वच्छ वायु कार्य योजना) को बने दो साल हो चुके हैं, लेकिन अब भी शहर की हवा स्वच्छ और स्वस्थ नहीं हुई। सेंटर फॉर एनवायरमेंट एंड एनर्जी डेवलपमेंट (सीड) द्वारा आज जारी एक रिपोर्ट ‘एम्बियंट एयर क़्वालिटी असेसमेंट’ के अनुसार बीते सात माह (जनवरी से जुलाई) में शहर में वायु की गुणवत्ता सिर्फ 7 दिन ही ‘अच्छी’ श्रेणी में दर्ज की गयी। इस रिपोर्ट का उद्देश्य वायु गुणवत्ता सूचकांक (एयर क्वालिटी इंडेक्स) पर आधारित वायु प्रदूषण की हालिया स्थिति को सामने लाना और सरकारी एजेंसियों को ठोस कदम उठाने के लिए प्रेरित करना है। अध्ययन के अनुसार पिछले सात महीनों में पटना में हवा की गुणवत्ता कुल दिनों में केवल 3 प्रतिशत दिन ही ‘अच्छी’ रही, जबकि 97 प्रतिशत दिनों में यह सांस लेने के लायक नहीं थी, जिसमें से करीब 66% दिन ‘मध्यम’ और ‘बहुत खराब’ श्रेणी में पाए गए और केवल 31% दिन ‘संतोषजनक’ श्रेणी में देखे गये। रिपोर्ट के निष्कर्ष इस लिहाज से भी महत्वपूर्ण हैं कि राज्य में दो महीने कोविड महामारी के कारण लॉकडाउन था, जिसकी वजह से सभी व्यावसायिक एवं औद्योगिक गतिविधियां अस्थायी रूप से बंद थीं।

विश्लेषण के अनुसार बीते सात महीनों में पार्टिकुलेट मैटर (पीएम) 2.5 की औसत मासिक सघनता के लिहाज से जनवरी सबसे प्रदूषित महीना रहा और जुलाई सबसे कम प्रदूषित। जनवरी में पीएम 2.5 की औसत सघनता 130 माइक्रो ग्राम प्रति घनमीटर थी, जबकि फरवरी और मार्च में यह क्रमश: 114 और 98 माइक्रो ग्राम प्रति घनमीटर पायी गयी। अप्रैल और मई माह में औसत सघनता क्रमशः 89 और 39 माइक्रो ग्राम प्रति घनमीटर आंकी गयी, वहीँ जून में यह 33 और जुलाई में यह 25 माइक्रो ग्राम प्रति घनमीटर दर्ज की गयी।

शहर में वायु गुणवत्ता को बेहतर करने के समाधानों के बारे में सीड में सीनियर प्रोग्राम ऑफिसर सुश्री अंकिता ज्योति ने कहा कि “वायु प्रदूषण को रोकने के लिए बना क्लीन एयर एक्शन प्लान निश्चय ही एक ठोस कदम है, हालांकि दिशानिर्देशों के अनुसार अब तक पचास प्रतिशत उपायों को लागू कर दिया जाना चाहिए था। आंकड़े बताते हैं कि पिछले पांच वर्षों में वायु प्रदूषण में अभूतपूर्व वृद्धि हुई है, ऐसे में संबंधित सरकारी विभागों और एजेंसियों की तरफ से दीर्घकालिक समाधान के कई कदम उठाये जाने चाहिए जैसे – वायु गुणवत्ता लक्ष्यों को हासिल करने के लिए प्रभावी जवाबदेही तंत्र सुनिश्चित करना, उठाये गये कदमों को ट्रैक करने के लिए सिंगल विंडो सिस्टम को प्रोत्साहित करना, नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल में प्रस्तुत योजना की त्रैमासिक प्रगति रिपोर्ट को सार्वजनिक करना और मॉनिटरिंग कमिटी में सिविल सोसाइटी संगठनों के प्रतिनिधित्व में वृद्धि के साथ जन-जागरूकता कार्यक्रम को नए सिरे से बढ़ावा देना आदि।”

रिपोर्ट में पिछले सात महीनों के पीएम 2.5 की सघनता का तुलनात्मक विश्लेषण पिछले वर्ष 2020 के शुरुआती सात महीने (जनवरी-जुलाई) के साथ भी किया गया, जो बताता है कि पीएम 2.5 इस वर्ष फरवरी में 25% अधिक, मार्च में 31% और अप्रैल में 50% अधिक था। पिछले वर्ष की तुलना में मई में पीएम 2.5 की औसत मासिक सघनता 15%, जबकि जून में 27% और जुलाई में 5 प्रतिशत अधिक देखी गई है। इसके अलावा उन सभी छह स्थानों पर जहां वायु गुणवत्ता की निगरानी की जा रही है, उनमें इंदिरा गाँधी प्लेनेटोरियम के आसपास सबसे खराब वायु गुणवत्ता देखी गयी और इसके बाद दानापुर और राजवंशी नगर क्षेत्र में कमोबेश यही स्थिति रही। गुणवत्ता की निगरानी वाले सभी छह जगहों में समनपुरा क्षेत्र को सबसे कम प्रदूषित पाया गया।

उल्लेखनीय है कि पिछले 5 वर्षों के आंकड़ों का निष्कर्ष है कि पटना में 2016 से वायु प्रदूषण की स्थिति बढ़ती जा रही है और यह गंभीर स्थिति का सूचक है, क्योंकि लोग खराब हवा में सांस लेने को विवश हैं। मिसाल के तौर पर, 2016 में पीएम 10 की वार्षिक सघनता राष्ट्रीय मानक से कम से कम 3.5 गुना थी, और 2018 में 3.4 गुना और 2019 में 3.9 गुना। हालांकि 2017 में प्रदूषण का स्तर थोड़ा कम हुआ, लेकिन फिर भी यह राष्ट्रीय मानक से 2.6 गुना अधिक था।

सीड ने अप्रैल 2016 से उत्तर भारत के शहरों के लिए पहला एयर क़्वालिटी बुलेटिन जारी किया था और नवीनतम बुलेटिन इसी श्रृंखला का एक हिस्सा है, ताकि वायु प्रदूषण के समाधान के दृष्टिकोण के अनुरूप सार्वजनिक क्षेत्र में इस पर व्यापक चर्चा हो। सीड शहर में सांस लेने योग्य हवा सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध है और सरकारी विभागों एवं एजेंसियों को हर संभव मदद करने को तैयार है, ताकि ठोस समाधान वास्तविक धरातल पर उतरे और शहर की आबोहवा स्वस्थ और स्वच्छ हो सके।

By Shubhendu Prakash

शुभेन्दु प्रकाश 2012 से सुचना और प्रोद्योगिकी के क्षेत्र मे कार्यरत है साथ ही पत्रकारिता भी 2009 से कर रहें हैं | कई प्रिंट और इलेक्ट्रनिक मीडिया के लिए काम किया साथ ही ये आईटी services भी मुहैया करवाते हैं | 2020 से शुभेन्दु ने कोरोना को देखते हुए फुल टाइम मे जर्नलिज्म करने का निर्णय लिया अभी ये माटी की पुकार हिंदी माशिक पत्रिका में समाचार सम्पादक के पद पर कार्यरत है साथ ही aware news 24 का भी संचालन कर रहे हैं , शुभेन्दु बहुत सारे न्यूज़ पोर्टल तथा youtube चैनल को भी अपना योगदान देते हैं | अभी भी शुभेन्दु Golden Enterprises नामक फर्म का भी संचालन कर रहें हैं और बेहतर आईटी सेवा के लिए भी कार्य कर रहें हैं |

Leave a Reply

Your email address will not be published.

hi Hindi
X
Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro

Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.

Powered By
Best Wordpress Adblock Detecting Plugin | CHP Adblock