कई बार लोग भगवद्गीता याद करने का प्रयास करते हैं। क्या ये संभव है कि पूरे सात सौ श्लोक याद कर लिए जाएँ? अगर टुकड़े-टुकड़े में तोड़कर किया जाए तो ऐसा किया जा सकता है। अगर दिन के केवल दो ही श्लोक याद किये जाएँ और ऐसा एक वर्ष तक लगातार जारी रखा जाए, तो सात सौ श्लोक याद किये जा सकते हैं।

 

अब प्रश्न है कि हर दिन दो श्लोक रटें कैसे? तो इसके लिए फिर से बचपन के दिनों वाली श्रुतिलेख की पुस्तिका याद कीजिये। उसमें वाक्य थोड़े हल्के रंग से छपे होते थे। बच्चों को उसपर कलम या पेंसिल से दोबारा लिखना होता था। जो वाक्य पांच बार लिख डाला जाए, संभावना है कि वो याद भी हो जायेगा। तो क्या एक बार फिर से ऐसा करें?

Gita Chapter 12

पहले से इस काम के लिए कोई कॉपी-पुस्तिका बनी बनायी नहीं आती, अतः हमने ऐसी एक पुस्तिका का निर्माण शुरू किया है। बारहवाँ अध्याय (भक्तियोग) सबसे छोटा होता है। हमने उसी के बीस श्लोकों से शुरुआत की है। हर दिन हम इसमें एक दो पन्ने जोड़ते जाते हैं। आपको केवल इसे डाउनलोड करना है। फिर प्रिंट लेकर उसपर लिखने का अभ्यास किया जा सकता है। मेरा प्रयास है कि इसके अक्षरों के आकार, फॉण्ट इत्यादि में सुधार लगातार जारी रखा जाए। अगर आप इस दिशा में कोई भी सुझाव दे सकेंगे, तो बड़ी कृपा होगी!

 

धन्यवाद

By

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share